Solar Charkha Mission 2022: सौर चरखा मिशन

0
1524
Solar Charkha Mission
Solar Charkha Mission

2016 में बिहार के नवादा जिले के खानवा गाँव में सौर चरखे पर एक पायलट परियोजना लागू की गई लागू की गई थी और उसी परियोजना के सफलता के आधार पर भारत सरकार ने कई ऐसे क्लस्टर स्थापित करने की स्वीकृति भी जिनसे लाखों व्यक्तियों को प्रत्यक्ष रोजगार प्रदान किया जा सके।

इसी कड़ी को आगे बढ़ाते हुए पूरे भारत में जून, 2018 के दौरान सोलर चरखा मिशन की शुरुआत की गई। इस मिशन के अंतर्गत सूक्ष्म तथा लघु उद्योग स्थापित करने के लिए सरकार द्वारा लोगों की मदद की जाएगी। सूक्ष्म लघु और मध्यम उद्यम मंत्रालय (MSME) के द्वारा इस योजना को संचालित किया जा रहा है। खादी और ग्रामोद्योग आयोग (KVIC) भी इसी दौरान लागू किया गया।

देश भर में 50 सौर समूहों को कवर करने का लक्ष्य तय किया गया है। सौर चरखा योजना के अंतर्गत लगभग 1 लाख कारीगरों को लाभ पहुंचाने की कोशिश की जाएगी। पूर्वोत्तर क्षेत्र, जम्मू कश्मीर, पहाड़ी राज्य जहां पर बहुत कम सहूलियत हैं, वहां पर भी इस योजना को लागू किया जाएगा और उन राज्यों पर विशेष ध्यान दिया जाएगा।

सौर चरखा मिशन का उद्देश्य (Solar Charkha Mission: Objectives)

ग्रामीण अर्थव्यवस्था को बढ़ावा देने और ग्रामीण से शहरी क्षेत्रों में पलायन को रोकने साथ साथ विशेष करके महिलाओं और युवाओं के लिए रोज़गार प्रदान करने के लिए ही इस योजना को शुरू किया गया है। कम लागत, नवीन तकनीक और जीविका के लिए कई सारी प्रक्रियाएं यही इस योजना का उद्देश्य है।

सौर चरखा मिशन का बजट

सौर चरखा के एक क्लस्टर का बजट अधिकतम 9.599 करोड़ रु तय किया गया है। लगभग 500 बुनकरों को इस योजना के तहत सब्सिडी प्रदान करने के लिए 1.93 करोड़ रुपए जारी किए गए हैं।

योजना के तहत प्रदान की जाने वाली सब्सिडी

व्यक्तिगत और विशेष प्रयोजन वाहन (एसपीवी) के लिए पूंजीगत सब्सिडी निम्नलिखित प्रकार उपलब्ध करवाई जाएगी।

  • 2000 सौर चरखा, अधिकतम सब्सिडी 45,000 रुपए
  • प्रति चरखा, 15,750 रुपए की सब्सिडी

सौर चरखा मिशन 2022 के लाभ

  • रोज़गार के अवसर प्रदान करने हेतु इस योजना को शुरू किया गया है, इस योजना से कई बेरोज़गार लोगों को रोज़गार प्राप्त होगा।
  •  विशेषकर महिलाओं को लाभ पहुंचाया जाएगा।
  •  ग्रामीण क्षेत्रों में सोलर चरखे उपलब्ध करवाकर लघु तथा सूक्ष्म उद्योग स्थापित करने के लिए लोगों को उत्साहित किया जाएगा।
  • सोलर चरखे का उपयोग करके कपड़े का निर्माण किया जाएगा और उससे ग्रामीण क्षेत्रों में रहने वाले लोगों को लाभ होगा।
  • कम लागत कम लागत में लोगों को पेंटर बेहतर तकनीक वाले सोलर चरखे उपलब्ध करवाए जाएंगे।
  • ग्रामीण क्षेत्रों में रहने वाले  ज्यादा से ज्यादा लोगों को इस योजना से जोड़ने की कोशिश की जाएगी ताकि वह अपना रोजगार शुरू कर पाए।
  • लोगों को सोलर चरखे खरीदने पर सब्सिडी प्रदान की जाएगी।
  • सोलर चरखे में पूरा यूनिट जिसमें सिलाई मशीन कपड़ा बुनने के अलग-अलग उपकरण उपलब्ध करवाए जाते हैं।
  •  इसके अतिरिक्त सोलर चरखा  यूनिट खरीदने के लिए बैंक से लोन की सुविधा भी इस योजना के अंतर्गत प्रदान की गई है।
  •  इस योजना के अंतर्गत सोलर चरखा लेने के लिए बहुत कम ब्याज पर लोन उपलब्ध करवाया जाएगा।
  • योजना के अंतर्गत देश की लगभग 5 करोड महिलाओं को जोड़ा गया है, महिलाओं को रोजगार प्राप्त प्रदान करके उन्हें अपना व्यवसाय शुरू करने के लिए प्रेरित किया गया है।
  • सोलर चरखा खरीद कर उद्योग स्थापित करने वाली एजेंसियां या लोग योजना के तहत काम करेंगे, तो उनकी आमदनी में भी वृद्धि होगी।
  • कारीगरों को 550 करोड़ तक की सब्सिडी प्रदान की जाएगी।
  • इस योजना से भारत में ग्रामीण कारीगरों की स्थिति में सुधार आएगा।
  • यह योजना शहरी क्षेत्रों में ग्रामीण आबादी के प्रवास को रोकने में मदद करेगी।
  • लाभार्थी को योजना के तहत प्रशिक्षण प्रदान किया जाएगा।

Solar Charkha Mission 2022: Guidelines)

  • इस योजना की निगरानी सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यम मंत्रालय द्वारा की जाती है।
  • एक व्यक्ति या एक प्रमोटर एजेंसी भी आवेदन कर सकती हैं।
  • सौर चरखा मिशन निदेशालय द्वारा संभावित समूहों की राज्यवार सूची तैयार की जाएगी।
  •  खादी संस्थान भी आवेदन कर सकते हैं।
  • प्रमोटर द्वारा योजना के तहत आवेदन करने वाली एजेंसी का सर्वेक्षण किया जाएगा, एजेंसी ने लगभग 200 सदस्य की पहचान आधार संख्या के माध्यम से की जाएगी, जिनमें कम से कम 50% महिलाएं होनी अनिवार्य है।
  • प्रमोटर द्वारा भूमि की व्यवस्था की जाएगी और भूमि से संबंधित सभी व्यय प्रमोटर द्वारा किए जाएंगे।
  •  खादी और ग्रामोद्योग संस्थान (KVI) के पास एक सकारात्मक बैलेंस शीटऔर संस्थान के पक्ष में संपत्ति होगी, तभी संस्थान आवेदन कर पाएंगे।
  • पिछले तीन वर्षों में नए कारीगरों की संख्या में वृद्धि होनी चाहिए।
  • अनुसूचित वाणिज्यिक बैंकों / एनबीएफसी / वेंचर कैपिटल फंड / प्राइवेट इक्विटी फंड से प्रतिबद्धता भी आवश्यक है।

सौर चरखा मिशन 2022 आवश्यक दस्तावेज

  • एजेंसी की सारी डिटेल
  • एजेंसी या उद्योग के अन्य दस्तावेज
  • यदि कोई एक व्यक्ति इस योजना के लिए आवेदन कर रहा हो तो उसका आधार कार्ड
  • व्यक्ति का मूल निवासी पहचान पत्र
  • व्यक्ति का जातीय सर्टिफिकेट
Solar Charkha Mission 2020
Solar Charkha Mission

सौर चरखा मिशन आवेदन प्रक्रिया

इस योजना के तहत आवेदन करने के लिए ऑफिशियल वेबसाइट  “https://www.kviconline.gov.in/msc/”   है।

सौर चरखा मिशन भारत की ग्रामीण आबादी को आत्म निर्भर बनाने के लिए भारत सरकार द्वारा एक पहल है। सौर चरखा मिशन भारत में स्पिनरों, सिलाई करने वालों और बुनकरों सहित सभी कारीगरों को शामिल करता है। सौर चरखा मिशन को ग्रामीण अर्थव्यवस्था के विकास के लिए वरदान की उम्मीद है।

इसके अलावा, मिशन ने लोगों को बिना किसी जोखिम के अपना व्यवसाय शुरू करने के लिए प्रेरित किया है। भारत सरकार का समर्थन लोगों को आश्वस्त करता है और उन्हें अपना उद्योग शुरू करने के लिए प्रेरित करता है।

सरकारी योजना List प्रधानमंत्री सरकारी योजना

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here