श्रेयस योजना 2021 | Shreyas Scheme 2021 | Shreyas Yojana 2021

    0
    937
    Shreyas Yojana 2021

    श्रेयस योजना 2021 (Shreyas Yojana 2021) : उच्च शिक्षा प्राप्त युवाओं के लिए योजना

    मानव संसाधन विकास मंत्रालय ने अपरेंटिसशिप एंड स्किल्स (SHREYAS)नामक योजना के लिए 28 फरवरी, 2019 को पोर्टल लॉन्च किया। उच्च शिक्षा प्राप्त युवाओं के लिए पोर्टल लॉन्च किया गया है। श्रेयस डिग्री पाठ्यक्रमों में मुख्य रूप से गैर-तकनीकी छात्रों के लिए एक कार्यक्रम तैयार किया गया है, जो अपने शिक्षण में कौशल का परिचय देते हैं। कार्यक्रम शिक्षा के अभिन्न अंग के रूप में अप्रेंटिसशिप को बढ़ावा देते हैं और शिक्षा व्यवस्था में सरकार के प्रयासों को सुविधाजनक बनाने के लिए रोजगार भी उपलब्ध कराते हैं ताकि छात्रों को रोजगार के अवसर उनके स्नातक होने के दौरान और बाद में उपलब्ध हो पाएं।

    कौशल के साथ साथ शिक्षा भी समय की आवश्यकता है और श्रेयस इसी दिशा में एक बड़ा प्रयास है। डिग्री प्राप्त कर चुके छात्रों की जरूरतों के हिसाब से अधिक कुशल, सक्षम किया जाएगा, ताकि वे देश की प्रगति में योगदान दे सकें और लाभकारी रोजगार प्राप्त कर सकें।

    देश में छात्रों और युवाओं के लिए रोजगार के अवसर पैदा करने के लिए ही सरकार द्वारा श्रेयस योजना शुरू की गई है। श्रेयस योजना के अंतर्गत देश के उच्च शिक्षा प्राप्त युवाओं को रोजगार पाने में मदद तथा बेहतर अवसर प्रदान किए जाएंगे। जिन युवाओं ने बेहतर प्लेसमेंट और रोजगार के लिए उच्च शिक्षा प्राप्त की है, उन सबको  विशेष उद्योग में शिक्षा के अवसर प्रदान किए जाएंगे।

    श्रेयस योजना 2021 का उद्देश्य (Shreyas Yojana 2021: Objectives)

    योजना का उद्देश्य सामान्य स्नातकों को उद्योग अपरेंटिसशिप के अवसर प्रदान करना, छात्रों की रोजगार क्षमता में सुधार करना है। उच्च शिक्षा में प्रणाली स्थापित करके अच्छी गुणवत्ता की जनशक्ति हासिल करने में व्यापार / उद्योग की मदद प्रदान करके उन्हें छात्र समुदाय के रोजगार से जोड़ना ही इस योजना का लक्ष्य है।

    श्रेयस योजना 2021 की विशेषताएं (Shreyas Scheme 2021: Features)

    श्रेयस योजना प्राथमिक योजना राष्ट्रीय शिक्षुता संवर्धन योजना (NAPS) के द्वारा संचालित की जाएगी, जो प्रत्येक व्यवसाय / उद्योग में कुल 10% तक प्रशिक्षुओं को रखने का प्रावधान करती है। 

    यह योजना शुरू में बैंकिंग कौशल बीमा सेवाओं (बीएफएसआई), खुदरा, स्वास्थ्य देखभाल, दूरसंचार, लॉजिस्टिक्स, मीडिया, प्रबंधन सेवाओं, आईटीईएस और सेक्टर स्किल काउंसिल्स (एसएससी) द्वारा लागू की जाएगी। उभरते हुए प्रशिक्षुता की मांग के साथ अधिक क्षेत्रों को जोड़ा जाएगा।

    श्रेयस कार्यक्रम तीन चरणों में संचालित किया जायेगा, जिनका विवरण निम्नलिखित प्रकार है:-

    • पहला चरण :- ऐड-ऑन अपरेंटिसशिप (डिग्री अपरेंटिसशिप)
    • योजना के पहले चरण में डिग्री कार्यक्रम को पूरा करने वाले छात्रों को प्रशिक्षुता या प्रशिक्षण नौकरी की भूमिकाओं की एक चयनित सूची से अपनी पसंद की नौकरी की भूमिका चुनने के लिए आमंत्रित किया जाएगा। बुनियादी प्रशिक्षण के साथ डिग्री प्रोग्राम (प्रत्येक वर्ष मई) के पूरा होने के तुरंत बाद अपरेंटिसशिप शुरू होगा और 6 महीने तक चलेगा। छात्र को उद्योग द्वारा प्रति माह लगभग 6,000 रुपये का मासिक वजीफा मिलेगा। जो छात्र अपरेंटिसशिप में सफल होंगे, उनको डिग्री प्रमाण पत्र के अलावा कौशल प्रमाण पत्र दिया जायेगा।
    • दूसरा चरण :- एंबेडेड अप्रेंटिसशिप
    • Voc (बैचलर ऑफ वोकेशन) कार्यक्रमों का पुनर्गठन B.A (प्रोफेशनल), B.Sc (प्रोफेशनल) या B.Com (प्रोफेशनल) पाठ्यक्रमों को B.Voc (बैचलर ऑफ वोकेशन) कार्यक्रमों में पुनर्गठित किया जाएगा। इन पाठ्यक्रमों में 6 से 10 महीने के शैक्षिक इनपुट, व्यावसायिक इनपुट शामिल होगी।
    • Voc पाठ्यक्रम का एक पूर्ण सेमेस्टर उद्योग के साथ शिक्षुता के लिए समर्पित होगा। उद्योग द्वारा प्रति माह लगभग 6,000 रुपये का मासिक वजीफा दिया जायेगा, जिसमें से 25% एनएपीएस कार्यक्रम के तहत प्रतिपूर्ति की जाएगी और सफल छात्रों को डिग्री प्रमाण पत्र के अलावा कौशल प्रमाण पत्र दिया जायेगा।
    • तीसरा चरण :- कॉलेजों के साथ राष्ट्रीय कैरियर सेवा को जोड़ना
    • SHREYAS योजना केअंतर्गत श्रम और रोजगार मंत्रालय के राष्ट्रीय कैरियर सेवा (एनसीएस) पोर्टल को उच्च शिक्षा संस्थानों के साथ जोड़ा जाएगा। छात्रों को आवश्यक कौशल में प्रशिक्षित किया जाएगा। इससे रोजगार के अवसरों में सुधार होगा।

     

    संस्थाएँ: इस योजना में  उच्च शिक्षा संस्थान में जोड़े गए हैं जिनकी जानकारी इस प्रकार है:-

    • सेक्टर स्किल काउंसिल (SSCs):- SSCs अप्रेंटिसशिप के लिए उद्योगों की पहचान करेंगे और प्रमाणीकरण के लिए मूल्यांकन का संचालन भी करेंगे।
    • कौशल विकास और उद्यमिता मंत्रालय (MSDE):- MSDE न केवल कार्यक्रम, प्रशिक्षुओं की प्रगति की निगरानी करेगा बल्कि NAPS के अनुसार प्रतिपूर्ति की दिशा में कार्यक्रम को वित्त प्रदान करेगा। SSCs के चल रहे प्रयासों की निगरानी MSDE द्वारा की जाएगी, जो समय-समय पर नए SSCs को SHREYAS फोल्ड में पेश करेगा।
    • राष्ट्रीय शिक्षुता संवर्धन योजना (NAPS):- मानव संसाधन विकास मंत्रालय ने राष्ट्रीय शिक्षुता प्रोत्साहन योजना (NAPS) के माध्यम से सामान्य स्नातकों को उद्योग अपरेंटिसशिप के अवसर प्रदान करेंगे।

    श्रेयस योजना 2021 के लाभ (Shreyas Yojana 2021: Benefits)

    • छात्रों को सामान्य अध्ययन के साथ रोजगार से जोड़ने के लिए तैयार किया जाएगा।
    • छात्रों की प्रोफाइल के आधार पर, छह, नौ या एक वर्ष का प्रशिक्षण दिया जाएगा।
    • कार्यक्रम के माध्यम से छात्रों को स्वास्थ्य, शिक्षा, उद्योग आदि में पूर्ण प्रशिक्षण प्रदान करके डिग्री अध्ययन पूरा करने के बाद रोजगार के अवसर प्रदान किये जायेंगे ।
    • स्नातकों को उद्योग अपरेंटिसशिप के अवसर प्रदान किये जायेंगे।
    • उच्च शिक्षा प्रणाली सीखने की प्रक्रिया में रोजगार प्रासंगिकता की शुरुआत करके छात्रों की रोजगार क्षमता में सुधार होगा।
    • स्थायी आधार पर शिक्षा और उद्योग / सेवा क्षेत्रों के बीच घनिष्ठ कार्यात्मक संबंध बनाये जायेंगे।
    • छात्रों को एक गतिशील तरीके से कौशल प्रदान किये जायेंगे।
    • अच्छी गुणवत्ता की जनशक्ति हासिल करने में व्यापार / उद्योग की मदद प्रदान की जाएगी।

    श्रेयस योजना 2021 के तहत जारी किये गए दिशा निर्देश  (Shreyas Scheme 2021: Guidelines)

    • सभी विश्वविद्यालयों, कॉलेजों, आईटीआई और पॉलिटेक्निक के छात्रों को SHREYAS योजना के तहत पंजीकरण कराना होगा, तभी उनको फायदा होगा।
    • इस योजना का लाभ केवल उन्हीं छात्रों को मिल सकता है जिनके पास आवश्यक शैक्षणिक और अन्य कौशल हैं, जो प्रशिक्षु प्रोफ़ाइल से मेल खाते हो।
    • शैक्षणिक और अन्य कौशल में प्रशिक्षण देने वाले व्यक्ति के निर्णय को अंतिम माना जाएगा।
    • छात्रों के पास अपना संबंधित मतदाता और आधार कार्ड होना चाहिए।
    • देश के किसी भी सरकारी या निजी कॉलेज में पढ़ रहे छात्र इस कार्यक्रम के तहत लाभ प्राप्त कर सकते हैं, देश के अन्य नागरिक इस कार्यक्रम के तहत लाभ नहीं उठा सकते।
    • केवल गैर-तकनीकी क्षेत्र में पढ़ने वाले छात्र जैसे के बीए, बीएससी और बीकॉम में स्नातक करने वाले छात्र ही इस योजना के लिए पंजीकरण कर सकते हैं।
    • जो विद्यार्थी मई 2019 से कॉलेज से पास हुए हैं, उन्हीं को इस योजना के तहत पंजीकरण करवाने की अनुमति है।
    • आवश्यक शैक्षणिक और अन्य कौशल से संबंधित दस्तावेज़ होने अनिवार्य हैं।

    श्रेयस योजना 2021 आवेदन प्रक्रिया (Shreyas Scheme 2021: Registration Process)

    पंजीकरण प्रक्रिया के लिए ऑनलाइन सुविधा उपलब्ध करवाई गई है। जो आवेदक पहली बार आवदेन कर रहे हों, उन्हें पहले रजिस्ट्रेशन करवानी होगी। रजिस्ट्रेशन प्रोसेस निम्नलिखित प्रकार है:-

    • आवेदक को आधिकारिक वेबसाइट https://shreyas.ac.in/Home पर जाना होगा।
    • इसके बाद एक नया पेज ओपन होगा।
    • आवेदक को Institute Register Now पर क्लिक करना होगा।
    • इसके पश्चात Institute Registration का पेज दिखाई देगा,इसमें State तथा Select Your Institute का चयन करके Head of Institution’s Email भरनी होगी।
    • Captcha Code भरने के बाद Send Registration Detail पर क्लिक करना होगा।
    • इस तरह रजिस्टशन पूरी हो जाएगी।

    लॉगिन प्रोसेस 

    लॉगिन करने के लिए आधिकारिक वेबसाइट पर जाना होगा।

    लॉगिन पेज दिखाई देगा, इसमें Username, Password तथा Captcha Code भरकर Login पर क्लिक करना होगा।

    इस तरह लॉगिन पूरी हो जाएगी।

    छात्रों को गतिशील तरीके से कौशल प्रदान करने लॉगिन पेज दिखाई देगा। के साथ उन्हें रोजगार अवसर प्रदान करने के लिए जो योजना शुरू की है इसका उनको अवश्य लाभ होगा। इसलिए सभी विद्यार्थी जो लाभ लेना चाहते हैं, उन्हें जरूर आवदेन करना चाहिए।

    LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here