प्रधानमंत्री वन धन योजना 2021 | PM Van Dhan Yojana 2021

0
971
PM Van Dhan Yojana
PM Van Dhan Yojana

प्रधानमंत्री वन धन योजना 2021 | PM Van Dhan Yojana 2021

कोई भी देश तब तक विकास नहीं कर सकता जब तक उसके निचले पायदान पर विकास ना हो। वैसे कहने को तो हम मंगल पर अपने यान को भेज रहे हैं, लेकिन सच्चाई यह भी है कि आज भी हमारे देश में आदिवासी परिवार कई मायनों में 18वीं सदी की सभ्यता में जी रहे हैं। उन्ही लोगो के उत्थान के लिए प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने एक योजना लाई। 14 अप्रैल 2018 को आदिवासियों को आय बढ़ाने और उनके विकास के लिए वन धन योजना की घोषणा की गई।

योजना का नाम वन धन योजना
लागु होने की तिथि 14 अप्रैल 2018
योजना का उद्देश्य जनजातीय लोगो के कौशल विकास के साथसाथ उनके उत्पाद का गुणवत्ता बढ़ाकर आय में वृद्धि करना।
लाभार्थी जनजातीय वर्ग
वेबसाइट https://trifed.tribal.gov.in/

 

वनो में परम्परागत रूप से रहने वाले मूल निवासी जो अपना उत्पाद करते हैं, उनका सही मूल्य उन्हें नहीं मिल पाता। आज भी वे आर्थिक रूप से काफी कमजोर हैं। शिक्षा का आभाव एवं परम्परागत जीवन शैली वाले इन अदिवासियो के उत्पाद का उचित मूल्य नहीं मिल पाता और ये निर्धनता के दुष्चक्र से नहीं निकल पाते हैं। इसलिये केंद्र सरकार द्वारा वन धन योजना का आगाज़ किया गया है।

इस योजना के अंतर्गत आदिवासी युवाओं को इमली, महुआ भंडारण, कलौंजी की साफ-सफाई, पैकेजिंग के अलावे इन उत्पादों के बारे में सारी जानकारी और मार्केटिंग सिखाई जायेगी। जिससे न केवल इनलोगों की कुशलता का विकास होगा, बल्कि इनकी आय में वृद्धि होगी। इस योजना से वनो के संसाधनों का सही उपयोग होगा, आदिवासियों का विकास होगा और सरकार को टैक्स में भी वृद्धि होगी।

वन धन योजना के तहत वन संपदा से भरपूर जनजातीय जिलों में वन धन विकास केंद्र जनजातीय समुदाय के जरिए संचालित किए जाएंगे। हर केंद्र 10 जनजातीय स्वयं सहायता का समूह निर्माण करेगा तथा हर समूह में लगभग 30 जनजातीय संग्रहकर्ता शामिल होंगे। इसके अलावा कौशल उन्नयन और क्षमता निर्माण प्रशिक्षण देने के साथ साथ प्राथमिक प्रसंस्करण और मूल्यवर्धन की सुविधा का स्थापना करेंगे। स्थानीय रूप से इसका प्रबन्धन प्रबंध समिति करेगी।

प्रधानमंत्री वन धन योजना 2021 का उद्देश्य | PM Van Dhan Yojana 2021: Objectives

  • वन धन योजना का उद्देश्य आदिवासी जीवन स्तर को ऊँचा उठाना है।
  • जनजातियों द्वारा तैयार उत्पाद की गुणवत्ता को बढ़ाकर उन्हें उचित मूल्य दिलवाना ताकि इनलोगो की आय में वृद्धि हो सके।

प्रधानमंत्री वन धन योजना 2021 की विशेषताएँ | PM Van Dhan Yojana 2021: Features

  • प्रत्येक जिले में 300 जनजातीय लोगों के लिए ट्रेनिग सेंटर का निर्माण किया जायेगा, ताकि उनका कौशल विकाश कर उनकी आर्थिक स्थिति को सुदृढ़ किया जायेगा।
  • योजना के तहत हरेक जिले में 15 केंद्र स्थापित किए जाने का लक्ष्य रखा गया है। प्रत्येक पंचायत में 20 जनजातीय लोगो का स्वयं सहायता समूह बनाया जायेगा।
  • अगर बाजार मूल्य में उतार चढ़ाव होता है तो TRIFED कृषि मंत्रालय से सलाहकार इनके उत्पादों की उचित मूल्य दिलाने की व्यवस्था करेगा।
  • वन धन योजना के तहत प्रशिक्षण के लिए आदिवासी युवाओं का चयन स्वयं सहायता समूह के माध्यम से TRIFED करेगी।
  • इस योजना के तहत देशभर के जिलों में 3000 वन धन केंद्र स्थापित किये जायेंगे।
  • प्रत्येक केंद्र में 10 जनजातीय वर्ग का समूह गठित किये जायेंगे। हर समूह में 30 सदस्य शामिल होंगे।
  • स्वयं सहायता समूह के नेतृत्व में समूह के सदस्य अपने उत्पादों की बिक्री अपने राज्य के अलावे दूसरे राज्यो में भी करेंगे।
  • समूह के लिए प्रशिक्षण तकनीकी सहायता TRIFED द्वारा मुहैया कराया जायेगा।
  • इस योजना का संचालन जनजातीय विकास मंत्रालय ट्राइफेड कॉर्पोरेटिव मार्केटिंग फेडरेशन ऑफ इंडिया के देख रेख में होगा।

प्रधानमंत्री वन धन योजना 2021 के लाभ | PM Van Dhan Yojana 2021: Benefits

  • इस योजना के तहत वन धन केंद्र में जनजातीय वर्ग के युवाओं को ईमली, महुआ के फूल का भंडारण, कलौंजी को साफ करना एवं अन्य वनीय छोटे-छोटे उत्पाद जैसे- शहद, ब्रसवुड, तसर और अन्य प्रकार के जड़ी बूटियों के राखं रखाव की ट्रेनिग तथा मार्केटिंग का प्रशिक्षण दिया जाएगा।
  • यह योजना जनजातीय वर्ग के युवाओं की कार्यकुशलता में वृद्धि करेगी।
  • वन धन योजना से आदिवासी क्षेत्र का विकास होगा और जनजातीय वर्ग के लोगों की आर्थिक स्थिति में सुधार होगा।
  • वनीय क्षेत्रों में रहने वाले लोगों का लघु वन उत्पाद उनकी आजीविका का प्रमुख साधन है। इस योजना के तहत लोगों को एमएफपी संग्रह और मूल्य संवर्धन में आदिवासी समुदाय के प्रयासों के प्रति निष्पक्ष और पारिश्रमिक रिटर्न सुनिश्चित करके आजीविका बनाने और आय उत्त्पन्न करने का ओका मिलेगा।
  • 30 आदिवासयों के 10 स्वयं सहायता समूह गठित किये जायेंगे। इन समुहो को स्थायी कटाई/संग्रह प्राथमिक प्रसंस्करण और और मूल्य संवर्धन का प्रशिक्षण मिलेगा।
सरकारी योजना List 2021 प्रधानमंत्री सरकारी योजना 2021

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here