प्रधानमंत्री मत्स्य संपदा योजना (नीली क्रांति) 2022-2023 | Pradhan Mantri Matsya Sampada Yojana 2022-2023 (Nili Kranti) 2022-2023 | How to Apply

1
1533
Pradhan Mantri Matsya Sampada Yojana 2021
प्रधानमंत्री मत्स्य संपदा योजना के लाभ और पंजीकरण प्रक्रिया

प्रधानमंत्री मत्स्य संपदा योजना (नीली क्रांति) 2022-2023 | Pradhan Mantri Matsya Sampada Yojana 2022-2023 (Nili Kranti) 2022-2023 | How to Apply

देश का ज्यादातर हिस्सा खेती-बाड़ी पर ही निर्भर है पर तटीय क्षेत्रों में, जहां पर पानी से जुड़े रोजगार ही किए जा सकते हैं, वहां पर व्यवसाय के साधन किस तरीके से प्रदान किए जाएं इसी के बारे में सोचते हुए इन क्षेत्रों के नौजवानों को रोजगार देने के लिए “प्रधान मंत्री मत्स्य संपदा योजना” की शुरुआत की गई।

“प्रधान मंत्री मत्स्य संपदा योजना” “नीली क्रांति (Blue Revolution) के तौर पर घोषित की गई है। इस क्रांति का मुख्य उद्देश्य मछली उत्पादनऔर प्रबंधन, मछुआरों की आर्थिक तौर पर सहायता करना है, क्योंकि इन क्षेत्रों में व्यवसाय के सीमित साधन होने की वजह से उन लोगों का जीवन स्तर इतना बढ़िया नहीं है, केवल मछलियां पकड़ना और उन्हें बेच देना यही उनका रोजगार है। नौजवानों को प्रोत्साहित करने के लिए और मछली उत्पादन को बड़े स्तर पर पहुंचाने के लिए

“प्रधान मंत्री मत्स्य संपदा योजना” का प्रारंभ किया गया। Pradhan Mantri Matsya Sampada Yojana (Blue Revolution) 2022

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने प्रधानमंत्री मुद्रा योजना के तहत 20000 करोड रुपए की योजना की रिपोर्ट बनाई। यह मध्य क्षेत्र के लिए बुनियादी ढांचे को मजबूत बनाने का एक आवश्यक कदम है। यह उत्थान समाचार वित्तीय परिवर्तनों के तीसरे किश्त के एक टुकड़े के रूप में आता है। इसमें से 11000 करोड रुपए समुद्री अंतर्देशीय मत्स्य पालन और जलीय कृषि पर खर्च किए जाएंगे। भारत सरकार का इरादा भारत को मछली उत्पादन (Machli Palan) और प्रसंस्करण में “नीली क्रांति” को लागू करने में पहले स्थान पर रखना है।

प्रधानमंत्री  मत्स्य  संपदा योजना के लाभ 2022| Benifits of PM Matsya Sampada Yojana  (Blue Revolution) 2022

योजना का लक्ष्य तटीय क्षेत्रों में जलीय व्यवसायिक साधनों के अलावा, रोजगार के साधन मुहैया करवाना है। योजना का उद्देश्य बागवानी को बढ़ावा देना है। कृषि अपशिष्ट को संभालना और नष्ट करना आदि मत्स्य क्षेत्र में क्षमता का सदुपयोग करने का एक बेहतरीन तरीका है। प्रशासन ने “प्रधान मंत्री मत्स्य संपदा योजना” का प्रस्ताव दिया जो एक शक्तिशाली मत्स्य बोर्ड संरचना का निर्माण करके “नीली क्रांति” को आगे बढ़ाएगा।

इस एक ही परियोजना में और भी बहुत सारी योजनाओं को शामिल किया गया है ताकि हर तरह से यह योजना कम रोजगार के साधनों वाले क्षेत्र में जरूरत की हर सुविधा को प्रदान कर सके उदाहरण के लिए फूड पार्क, फूड सेफ्टी और इंफ्रास्ट्रक्चर मूल्य जरूरतों का भी ध्यान रखा गया है ऐसे क्षेत्रों के लोगों को बाहर जाकर काम ना करना पड़े और वह आत्मनिर्भर बन पाए।

 प्रधानमंत्री संपदा योजना में शामिल छोटी योजनाएं 2022| PM Other Related Schemes 2022

  • केंद्रीय क्षेत्र योजना
  • केंद्र प्रायोजित योजना
  • योजना का कार्य अभियान

यह सारे घटक यह सुनिश्चित करते हैं कि परियोजना में कोई भी कमी न रह जाए और व्यवस्थित तरीके से ऐसे क्षेत्रों में लागू हो जाए। 2019-20 में राष्ट्र में लगभग 5,30,000  तत्काल या बैकहैंड काम का उत्पादन करेंगे। प्रशासन ने मछली निर्माण के लिए निर्धारित किया है और वह यह है कि 2020 तक नीली क्रांति के तहत 15 मिलियन के उद्देश्य को पूरा करना होगा और 2022-23 तक इसे बढ़ाकर लगभग 20 मिलियन करना होगा।

मत्स्य संपदा योजना के दिशा निर्देश और महत्व 2022| Objective of Mantri Matsya Sampada Yojana 2022

  • मत्स्य उत्पादन के लिए उत्पादकता, गुणवत्ता, बंजर भूमि और पानी के उत्पादक उपयोग को बढ़ाने के लिए विभिन्न तकनीकों जैसे रिसर्कुलेटरी एक्वाकल्चर सिस्टम, बायो फ्लॉक (Bio Floc), केज कल्टीवेशन (Cage Cultivation) आदि का उपयोग किया जाएगा।
  • ब्रैकिश वॉटर औरसलाइन एरिया में कोल्ड वॉटर फिशरीज के विकास और एक्वाकल्चर के विस्तार पर विशेष ध्यान दिया जाएगा।
  • रोजगार के बड़े अवसर पैदा करने के लिए समुद्री शैवाल की खेती और सजावटी मछली पालन जैसी गतिविधियों को बढ़ावा दिया जाएगा।
  • जम्मू कश्मीर, लद्दाख, द्वीप समूह, पूर्वोत्तर में क्षेत्र विशेष विकास योजनाओं के साथ और मत्स्य पालन के लिए प्रेरणादायक जिलों पर ध्यान दिया जाएगा।
  • तटीय फिशर समुदाय का विकास इस योजना में आवश्यक बुनियादी ढांचे के साथ एकीकृतआधुनिक तटीय मछली पकड़ने के गांव द्वारा समग्र रूप से किया जाएगा।
  • मछुआरा और मछली किसानों की सौदेबाजी की शक्ति को बढ़ाने के लिए किसान उत्पादक संगठनों के माध्यम से संग्रहण किया जाएगा। इस योजना के तहत बहुपक्षीयमत्स्य गतिविधियों / सुविधाओं के केंद्र के रूप में किया जाएगा।
  • इस योजना के तहत सरकारी और निजी क्षेत्रों के माध्यम से मत्स्य पालन केंद्रों (FIC) की स्थापना का समर्थन किया जाएगा। कृषि अनुसंधान और शिक्षा विभाग और आईसीएआर के साथ अनुसंधान विस्तार सेवाओं को मजबूत करने के लिए अपेक्षित अनुसरण बनाया गया है।
  • खेत के प्रवेश द्वार से लेकर रिटेल आउटलेट तक की वर्तमान रूपरेखा में सुधार किया जाएगा। भोजन तैयार करने वाले हिस्से को भी विकास के विस्तार में शामिल किया जाएगा।
  • एक किफायती, सक्षम, व्यापक तरीके से मत्स्य पालन की क्षमता का पता लगाया जाएगा। भूमि और पानी के विकास, ऊंचाई, चौड़ीकरण उपयोग के माध्यम से मछली निर्माण और सुधार का भी खास ध्यान रखा जाएगा।
  • मछुआरे और मछली पालने वालों की कमाई और काम की उम्र को बढ़ाना भी इस योजना का मूल मकसद है। सामाजिक, शारीरिक और वित्तीय सुरक्षा की ओर भी ध्यान दिया जाएगा।
  • सक्रियमत्स्य प्रबंधन और प्रशासनिक संरचना के लिए इस योजना में कई दिशा निर्देश जारी किए गए हैं, मत्स्य संपदा योजना के लाभार्थी वित्त मंत्री द्वारा संज्ञा के रूप में  इस योजना में शामिल हो सकते हैं।

 वित्तीय भत्ता (Financial Allowance)

  • प्रधानमंत्री योजना के लिए दिशा निर्देश 30 जून 2020 कोअधिकारियों द्वारा जारी किए गए हैं। जिसमें यह स्पष्ट किया गया है कि कितनी राशि किस विभाग में लगानी है। केंद्र सरकार द्वारा बनाई गई इस योजना के लिए निवेश 9,407 करोड़ राज्य सरकार द्वारा 4,880 करोड़ और 5,763 करोड रुपए लाभार्थी का योगदान होगा।
  • योजना को अमल में लाने के लिए क्लस्टर या क्षेत्र आधारित दृष्टिकोण का उपयोग अपेक्षित परिणामों के साथ सर्वोत्तम, परिणाम प्राप्त करने के लिए आगे और पिछड़े लिंकेज, अंत समाधानके लिए किया जाएगा यह निश्चित किया गया है कि 2020 में देश में लगभग 5,30,000 प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रोजगार पैदा होंगे।
  • यह योजना घरेलू मछली की खपत को 5 किलोग्राम से लगभग 12 किलोग्राम प्रति व्यक्ति तक बढ़ाने में मदद करेगी।
  • योजना के बाद की फसल के नुकसान की रिपोर्ट 20-25% से घटकर लगभग 10% हो जाएगी।

प्रधान मंत्री मत्स्य संपदा योजना पंजीकरण प्रक्रिया (Registration process Pradhan Mantri Matsya Sampada Yojana (Blue Revolution) 2022

कोई विशिष्ट पंजीकरण प्रक्रिया नहीं है, जो भारत सरकार द्वारा घोषित की गई हो। इसकी सारी जानकारी आधिकारिक वेबसाइट http://dof.gov.in/pmmsy पर उपलब्ध है।

1 COMMENT

  1. मुझे मत्स्य पालन करना है इसमें कहा आवेदन करे?
    इसमें कितना %अनुदान है ?
    इसमें राज्य अस्तर पर आवेदन करे या केंद्र अस्तर पर?
    मुझे मेरे ईमेल या वाट्स अप नंबर 9771091233 जानकारी दे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here