प्रधानमंत्री जन औषधि योजना 2022 | PM Jan Aushadhi Yojana 2022 | PMJAY | पंजीकरण प्रक्रिया

0
721
PM Jan Aushadhi Yojana 2021
PM Jan Aushadhi Yojana 2021

भारत देश में मिलने वाली अधिकतर दवाइयां बहुत ज्यादा कीमत पर उपलब्ध होती हैं, जो गरीब तथा आम इंसान के पहुंच के बाहर होती हैं। उच्च वर्ग से संबंधित लोग तो बहुत आसानी से महंगी दवाइयां प्राप्त कर लेते हैं, परंतु गरीब लोग ऐसा नहीं कर पाते। जिस वजह से आर्थिक तंगी के शिकार परिवार महंगी दवाइयां खरीद नहीं पाते और अपना इलाज नहीं करवा पाते। उन लोगों की इसी समस्या के निवारण के लिए “प्रधानमंत्री जनऔषधि योजना” नामक एक योजना नवंबर, 2016 में आरंभ की गई।

इस योजना की घोषणा केंद्र रसायन और उर्वरक राज्यमंत्री श्री हंसराज अहीर जी द्वारा की गई थी। उन्होंने इस योजना के आरंभ की घोषणा करते वक्त यह कहा था कि प्रधानमंत्री जनऔषधि योजना के अंतर्गत औषधि सेंटर खोले जाएंगे। औषधि सेंट्रो में दवाइयां बहुत ही कम कीमत पर उपलब्ध करवाई जाएंगी, जो हर एक इंसान की पहुंच के भीतर होंगी।

प्रधानमंत्री जनऔषधि योजना केंद्र सरकार द्वारा बनाई गई योजना है। इस योजना के लिए जितना भी फंड दिया गया है, वह सारा केंद्र सरकार द्वारा ही जारी किया गया है क्योंकि यह योजना एक राज्य के लिए बनाई गई योजना नहीं है बल्कि पूरे भारत के लिए बनाई गई योजना है।

प्रधानमंत्री जनऔषधि योजना एक ऐसी योजना है, जो जेनेरिक दवाइयों को प्रोत्साहित करने के लिए शुरू की गई है। जेनेरिक दवाइयां वह दवाइयां होती हैं, जो बहुत कम कीमत पर उपलब्ध होती है। उन दवाइयों की गुणवत्ता दूसरी दवाइयों की गुणवत्ता जितनी ही होती हैं, परंतु कीमत उन दवाइयों के मुकाबले बहुत कम होती है। जेनेरिक दवाइयां किसी ब्रांड से संबंधित नहीं होती बल्कि उनका सिर्फ नाम ही होता है और नाम के द्वारा ही उन दवाइयों को बेचा जाता है ना कि ब्रांड से संबंधित बताकर क्योंकि ज्यादातर देखा गया है कि डॉक्टर जब ब्रांड का नाम लिखते हैं, तो वह ब्रांड बहुत महंगे होती हैं जो आम लोगों के पहुंच के बाहर होते हैं। उन ब्रांडेड दवाइयों को खरीद नहीं पाते और अपना इलाज नहीं करवा पाते, परंतु जेनेरिक दवाइयां बहुत कम कीमत पर उपलब्ध होती हैं और बिल्कुल वैसे ही काम करती हैं जैसे दूसरी दवाइयां करती है।

जेनेरिक दवाइयों को प्रोत्साहित करने के लिए और जन औषधि केंद्र खोलने के लिए प्रधानमंत्री जनऔषधि योजना को शुरू किया गया है। इस योजना से एक तो जेनेरिक दवाइयां उपलब्ध करवा दी जाएंगी और दूसरा ऐसे जन औषधि केंद्र स्थापित कर दिए जाएंगे, जहां से जेनेरिक दवाइयां बहुत ही कम कीमत पर आम लोगों को उपलब्ध हो जाएंगी। प्रधानमंत्री जनऔषधि योजना पूरे भारत में लागू की गई है और इस योजना का लाभ बहुत से लोग उठा भी चुके हैं।

प्रधानमंत्री जन औषधि योजना 2022 का उद्देश्य (PM Jan Aushadhi Yojana 2022: Objectives)

महंगी दवाइयों के मुकाबले जेनेरिक दवाइयों को ज्यादा प्रोत्साहित करके गरीब लोगों को बहुत कम कीमत पर दवाइयां उपलब्ध करवाने का विचार निश्चित किया गया है और जन औषधि केंद्रों में यह दवाइयां उपलब्ध करवाने का फैसला किया गया है। लोगों को महंगी दवाइयां ना खरीदनी पढ़े और आसान तथा बहुत कम कीमत में जेनेरिक दवाइयां मिल जाए, बेरोजगार एवं जन औषधि केंद्र खोलने के इच्छुक नौजवान केंद्र खोल पाए, यही प्रधानमंत्री जनऔषधि योजना का उद्देश्य है।

प्रधानमंत्री जन औषधि योजना 2022 के लाभ (PM Jan Aushadhi Yojana 2022: Benefits)

सस्ती दवाइयां जेनेरिक दवाइयां

हर वर्ग के व्यक्ति तक सस्ती दवाइयां उपलब्ध करवाई जाएंगी और ब्रांडेड दवाइयों के नाम पर धोखाधड़ी, कालाबाजारी का खात्मा किया जाएगा। ब्रांडेड दवाइयों की जगह पर जेनेरिक दवाइयां औषधि केंद्रों में उपलब्ध करवाई जाएंगी।जो हर व्यक्ति और हर परिवार को आसानी से प्राप्त हो जाएंगी।

उच्च गुणवत्ता वाली दवाइयां

सस्ती कीमत पर उच्च गुणवत्ता वाली दवाइयां जन औषधि केंद्रों में पहुंचाई जाएंगी, जिससे लोगों को दोहरा फायदा होगा; एक तो दवाइयां सस्ती मिल जाएंगी और दूसरा उन दवाइयों की गुणवत्ता उच्च स्तर की होगी।

बिजनेस स्टार्टअप

जो लोग औषधि केंद्र खोलना चाहते हैं और औषधि में अपना बिजनेस शुरू करना चाहते हैं, उन लोगों को प्रधानमंत्री जनऔषधि योजना के अंतर्गत वित्तीय सहायता प्रदान करके औषधि केंद्र खेलने के लिए सहायता प्रदान की जाएगी।

इससे अपना बिजनेस शुरू करने के इच्छुक नौजवान लड़के-लड़कियां जन औषधि केंद्र खोलकर अपना व्यवसाय शुरू कर पाएंगे तथा बेरोजगारी में भी कुछ हद तक कमी होगी।

वित्तीय सहायता

जो भी नौजवान युवक युक्तियां जन औषधि केंद्र खोलना चाहते हैं, उनको इस योजना के अंतर्गत वित्तीय सहायता प्रदान की जाएगी।

जन औषधि केंद्र खोलने के लिए पंजीकृत लाभार्थी कोलगभग ढाई लाख रुपए की आर्थिक सहायता प्रदान की जाएगी।

कमीशन

दवाइयों की बिक्री पर लाभार्थी को 20% का कमीशन प्राप्त होगा अर्थात हर महीने ₹10,000 का कमीशन जन औषधि केंद्र खोलने वाले इंसान को मिलेगा।

उत्तर पूर्वी राज्य, नक्सली एरिया, आदिवासी क्षेत्र या जहां पर बहुत कम सुविधाएं हों, वहां पर जन औषधि केंद्र खोलने वाले इंसान को हर महीने 15% कमीशन प्राप्त होगा अर्थात ₹15,000 हर महीने कमीशन के रूप में प्राप्त होंगे।

12 महीने की बिक्री के लिए 10% अलग से कमीशन दिया जाएगा।

जन औषधि केंद्र खोलने की प्राथमिकता

सभी वर्गों से संबंधित लड़के लड़कियां जो जन औषधि केंद्र खोलने के इच्छुक हैं, उन्हें जनऔषधि केंद्र खोलने की आज्ञा आवेदन करने के उपरांत मिल जाएगी, किसी खास वर्ग को आरक्षण नहीं मिलेगा बल्कि सभी जन औषधि केंद्र खोलने के लिए इस योजना का के तहत आवेदन कर सकते हैं।

पिछड़ी श्रेणियों से संबंधित या विकलांग व्यक्तियों के लिए वित्तीय सहायता

यदि कोई पिछड़ी श्रेणी से संबंधित व्यक्ति या विकलांग व्यक्ति जन औषधि केंद्र खोलना चाहता है तो उनको ₹50,000 की जेनेरिक दवाइयां एडवांस में उपलब्ध करवा दी जाएगीं ताकि वह अपना बिजनेस स्टार्ट शुरू कर पाएं और इसका फायदा खुद भी उठाएं तथा लोगों को भी सस्ती दवाइयां पहुंचाने के कार्य में लग जाएं।

प्रधानमंत्री जन औषधि योजना 2022 के तहत आवेदन करने के लिए जारी किए गए दिशा-निर्देश (PM Jan Aushadhi Yojana 2022: Guidelines)

भारतीय नागरिक

प्रधानमंत्री जनऔषधि योजना के अंतर्गत आवेदन करने के लिए यह सुनिश्चित किया गया है कि जन औषधिकेंद्र केवल भारतीय नागरिक ही खोल सकते हैं। इसलिए भारतीय नागरिकता को साबित करने वाले दस्तावेज आवेदक के पास होने अनिवार्य हैं, केवल भारतीय नागरिक ही जनऔषधि योजना के तहत जन औषधिकेंद्र खोल सकते हैं।

आवेदन के लिए प्राथमिकता

पहले आवेदन के लिए यह सुनिश्चित किया गया था कि बी फार्मा और एम फार्मा पास कर चुके व्यक्ति ही औषधि केंद्र खोल सकते हैं परंतु अब यह घोषित कर दिया गया है कि कोई भी व्यक्ति चाहे वह किसी कारोबार से संबंधित हो या उसने मेडिकल पढ़ाई करी हो या उसके अपनी कोई कंपनी हो, अन्य कोई भी काम करने वाले व्यक्ति इस योजना के तहत जनऔषधि केंद्र खोलने के लिए मान्य है।

सरकारी एवं गैर सरकारी संगठन

यदि सरकारी एवं गैर सरकारी संगठन या मेडिकल से संबंधित कोई कर्मचारी, डॉक्टर, मेडिकल प्रैक्टिशनर, फार्मासिस्ट आदि जनऔषधि केंद्र खोलना चाहते हैं, तो उन्हें अपने व्यवसाय से संबंधित दस्तावेज जमा करवाने अनिवार्य हैं।

जनऔषधि केंद्र के लिए जगह

जनऔषधि केंद्र खोलने के लिए आवेदक के पास 120 स्क्वायर फीट जगह होनी आवश्यक है, यदि उसके पास 120 स्क्वायर फीट जगह नहीं है; तो वह इस योजना के तहत जन औषधि केंद्र खोलने के लिए मान्य नहीं होंगे। जिनके पास 120 स्क्वायर फीट जगह है, उनको अपनी जगह से संबंधित सारे दस्तावेज जमा करवाने आवश्यक हैं।

जो व्यक्ति किराए की जगह पर जनऔषधि केंद्र खोलना चाहते हैं, उनको भी इस योजना के तहत जनऔषधि केंद्र खोलने की आज्ञा है; उन्हें भी अपने किराए संबंधी दस्तावेज जमा करवाने होंगे।

बैंक स्टेटमेंट

जो भी जनऔषधि केंद्र खोलना चाहते हैं और इसके लिए आवेदन कर रहे हैं, उन सब को 3 साल पहले की बैंक स्टेटमेंट एवं बैंक ऑडिट डाटा सबमिट करवाना आवश्यक है।

जो व्यक्ति बैंक से लोन ले चुके हैं , उनको बैंक लोन सैंक्शन लेटर जमा करवाना आवश्यक है।

बैंक की डिटेल, बैंक पासबुक होना भी अनिवार्य है।

कंप्यूटर सर्टिफिकेट

कंप्यूटर में कोई कोर्स कर चुके व्यक्ति के पास कंप्यूटर ज्ञान सर्टिफिकेट या प्रमाण पत्र होना अति आवश्यक है, यदि कंप्यूटर कोर्स कर चुका व्यक्ति अपना प्रमाण पत्र नहीं जमा करवा पाता तो उसे इसका नुकसान होगा।

प्रधानमंत्री जन औषधि योजना 2022 आवश्यक दस्तावेज (PM Jan Aushadhi Yojana 2022: Required Documents)

  • आधार कार्ड
  • पैन कार्ड
  • सरकारी एवं गैर सरकारी संगठन से संबंधित दस्तावेज
  • कंप्यूटर ज्ञान सर्टिफिकेट
  • मेडिकल लाइन से संबंधित दस्तावेज
  • बैंक खाता एवं बैंक स्टेटमेंट
  • जहां पर जन औषधि केंद्र खोलना है, उस जगह के दस्तावेज
  • मोबाइल नंबर

प्रधानमंत्री जन औषधि योजना 2022 पंजीकरण प्रक्रिया (PM Jan Aushadhi Yojana 2022: Registration Process)

प्रधानमंत्री जनऔषधि योजना के तहत पंजीकरण करने के लिए दो प्रकार की सुविधाएं उपलब्ध करवाई गई हैं:- ऑफलाइन पंजीकरण प्रक्रिया एवं ऑनलाइन पंजीकरण प्रक्रिया। दोनों का विस्तृत वर्णन निम्नलिखित प्रकार है:-

ऑफलाइन प्रक्रिया

प्रधानमंत्री जनऔषधि योजना के तहत ऑफलाइन पंजीकरण करने के लिए निम्नलिखित स्टेप्स फॉलो करने होंगे:-

  • आवेदक को आधिकारिक वेबसाइट http://janaushadhi.gov.in पर जाना होगा या http://janaushadhi.gov.in/pdf/state-PMBJP.pdf पर जाना होगा।
  • वेबसाइट पर जाने के पश्चात आवेदक को वहां पर एक रजिस्ट्रेशन फॉर्म दिखाई देगा।
  • इस रजिस्ट्रेशन फॉर्म को डाउनलोड करना होगा।
  • डाउनलोड करने के बाद उसमें मांगी गई सारी जानकारी भरनी होगी।
  • जानकारी भरने के बाद कुछ डॉक्यूमेंट अटैच करने होंगे।
  • इसके पश्चात विभागीय अधिकारी के पास रजिस्ट्रेशन फॉर्म को जमा करवाना होगा।
  • इस प्रकार ऑफलाइन पंजीकरण प्रक्रिया पूरी हो जाएगी।

ऑनलाइन पंजीकरण प्रक्रिया

  • ऑनलाइन पंजीकरण करवाने के लिए आवेदक को आधिकारिक वेबसाइट पर जाना होगा।
  • इसकेश्चात उस पेज पर एक रजिस्ट्रेशन फॉर्म दिखाई देगा।
  • इस रजिस्ट्रेशन फॉर्म में सारी जानकारी जैसे कि नाम, पता, बैंक खाता आदि भरना होगा।
  • कुछ डॉक्यूमेंट अपलोड भी करने होंगे।
  • डॉक्यूमेंट अपलोड करने के बाद आवेदक को सबमिट बटन दिखाई देगा।
  • सबमिट बटन पर क्लिक करते ही रजिस्ट्रेशन फॉर्म जमा हो जाएगा।
  • इस प्रकार ऑनलाइन प्रक्रिया पूरी हो जाएगी।

आवेदक ऑफलाइन या ऑनलाइन दोनों में से कोई भी एक प्रक्रिया का चयन करके आवेदन कर सकते हैं।

रजिस्ट्रेशन के बाद विभागीय अधिकारियों द्वारा एक सूची तैयार की जाएगी, इस सूची के अनुसार ही आवेदन को औषधि केंद्र खोलने की स्वीकृति मिलेगी। इस सूची की सारी अपडेट आधिकारिक वेबसाइट पर ही मिलेगी।

प्रधानमंत्री जनऔषधि योजना उन लोगों के लिए वरदान है जो लोग महंगी दवाइयों को खरीद नहीं पा रहे और अपना तथा अपने परिजनों का इलाज नहीं करवा पाते। उन लोगों को बहुत ही कम कीमत पर उच्च गुणवत्ता वाली जेनेरिक दवाइयां मिल जाएंगी और वह अपना और अपने परिजनों का इलाज करवा पाएंगे।

इसके अलावा जनऔषधि केंद्र खोलने वाले लोगों को भी इसका फायदा होगा। वे लोग अपना बिजनेस शुरू कर पाएंगे, उनको रोजगार प्राप्त हो जाएगा और वह अपने घर का गुजारा कर पाएंगे, मिलने वाले कमीशन से उन्हें सही काम करने की प्रेरणा भी मिलेगी।

इसलिए जो भी जनऔषधि केंद्र खोलना चाहते हैं, उन लोगों को आवेदन करना चाहिए और इस अवसर का फायदा उठाना चाहिए। इस अवसर से ना केवल वह अपना बिजनेस कर पाएंगे बल्कि भारत सरकार को भी फायदा होगा और जेनेरिक दवाइयों के उपलब्ध होने से आम लोगों को भी इलाज में फायदा पहुंचेगा।

सरकारी योजना List 2022 प्रधानमंत्री सरकारी योजना 2022

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here