Pashudhan Bima Yojana 2022 In Hindi पशुधन बीमा योजना 2022: ऑनलाइन आवेदन

0
13
Pashu Dhan Bima Yojana
Pashu Dhan Bima Yojana

पशु भी किसान की आय के मुख्य स्रोत होते हैं तभी तो इन्हे पशुधन कहा जाता है। किसान अपने किसी भी पशु जिस से की किसान को आर्थिक लाभ प्राप्त हो रहा हो तथा उसकी जीविका का साधन हो का बीमा करवा सकता है ताकि भविष्य में अगर उसके पशु को कोई बीमारी या जंगली जानवरो के द्वारा या अन्य किसी प्रकार से कोई हानि पंहुचती है या उसकी मौत हो जाती है तो बीमे की रकम से किसान की आजीविका चलती रहे। किसान अपनी फसलों का तो बीमा करवा लेते हैं लेकिन अपने पशुओं का बीमा करवाना भूल जाते हैं जिनकी कीमत हजारों में होती है अगर गाय या भैंस दुधारु है तो फिर कीमत लाखों में भी हो सकती है। ऐसे में किसान को बहुत बड़ा नुकसान उठाना पड़ता है। इसी को ध्यान में रखकर केंद्र सरकार ने  किसानो और पशुपालको लिए पशुधन बीमा योजना की शुरुआत की है

Pashudhan Bima Yojana 2022 का उद्देश्य पशुधन बीमा योजना के लाभ

इस योजना का मुख्य उद्देश्य पशुओं को बीमा कवर प्रदान करना है ताकि पशुपालको या किसानो के पशुओ की अगर किन्ही कारणों से मृत्यु हो जाती है तो उनको बीमे की राशि प्रदान की जायग। इस योजना के माध्यम से पशुपालकों और किसानो को आर्थिक नुकसान से बचाया जा सकेगा। Pashudhan Bima Yojana की एक खास बात यह भी है कि इस योजना के अंतर्गत एक बार प्रीमियम का भुगतान करने पर 3 साल की अवधि के लिए इंश्योरेंस कवर प्रदान किया जाता है। दूध व्यवसाय किसानो तथा पशुपालको का आय का मुख्य श्रोत हैं. इस बीच लंपी वायरस ने भारत के कई राज्यों में पशुपालकों की कमर तोड़ दी है. वायरस से बड़ी संख्या के गायों की मौते हुई हैं और पशुपालकों की कमाई पर बेहद बुरा असर पड़ा है. गायों का बीमा नहीं होने की वजह से उन्हें पशुपालकों को बड़ा नुकसान झेलना पड़ रहा है ।

पशुधन बीमा के लिए आवेदन कैसे करे How To Apply For Pashudhan Bima Yojana 2022

जो किसान भाई अपने पशु का बीमा करवाना चाहते हैं तो सबसे पहले अपने नजदीकी पशु अस्पताल में बीमा की जानकारी देनी होगी उसके बाद पशुचिकित्सक और बीमा एजेंट पशुपालक के घर आकर पशु के स्वास्थ्य की जांच करेंगे। जिस से की पशु के स्वास्थ्य का पता चलता है और उस पशु की कीमत लगाई जाती है। जांच होने के बाद पशु चिकित्सक के द्वारा एक स्वास्थ्य प्रमाण पत्र जारी किया जाता है। बीमा एजेंट जांच होने के बाद पशु के कान में एक टैग लगाता फिर किसान और पशु की एक साथ फोटो ली जाती है। उसके बाद बीमा पालिसी जारी कर दी जाती है। अगर किसान का पशु खो जाता है तो किसान को बिमा कंपनी को सूचित करना होगा या अगर जानवर का टैग कंही गिर जाता है तो इस स्थिति में भी बिमा कम्पनी को सूचित करके नया टैग लगवाना पड़ेगा।

पशु धन बीमा योजना के लाभ कैसे प्राप्त करें

पशुपालको को बीमा कंपनी को पशु की मौत के 24 घंटे के भीतर सूचित करना होगा। पशुपालन विभाग के डॉक्टर पशुओं के शव का परीक्षण करेंगे जिस से मौत के कारणो का पता चलेगा और फिर एक रिपोर्ट तैयार करेंगे जिसमे की पशु की मौत का कारण भी लिखा होगा। इसके बाद पशु चिकित्शा अधिकारी अपनी रिपोर्ट बिमा कम्पनी को भेजते है। अधिकारीयो को 1 महीने की अवधि के भीतर बीमा कंपनी को दावा प्रस्तुत करना होता है जिस से बीमा कंपनी पशुधन बीमा योजना के लाभार्थियों को बीमे की रकम दी जाती है । बीमा कंपनी को दावा 15 दिनों में निपटाना अति आवश्यक है जिस से पशु पालक को आसानी और जल्दी से बिमा की राशि प्राप्त हो जाये।

किन परिस्थितियों में बिमा का लाभ मिलेगा

  • प्रकृतिक आपदा जैसे बाढ़, चक्रवात, अकाल भूकंप आदि
  • पशु को करंट लगने की स्थिति में
  • नहर में डूबने की स्थिति में
  • आग लगने की स्थिति में
  • वाहन से टकराने या दुर्घटना की स्थिति में
  • किसी भी कारण दुर्घटना की स्थिति में मौत
  • जंगली जानवर द्वारा हमले में मौत
  • बीमारियों जैसे की रिंडरपेस्ट, ब्लैक क्वार्टर, हैमोरैजिक सैप्टिसिमीया, पैर और मुंह रोग
  • सर्जिकल ऑपरेशन
  • हड़ताल, दंगा और फसाद
  • आतंकवादी कार्यवाई

किन परिस्थितियों में बीमा का लाभ नहीं मिलेगा

  • दुर्भावनापूर्ण या जानबूझकर पशु को पंहुचाए गए नुकसान की स्थिति में
  • लापरवाही की स्थिति में
  • भारी लदान या छमता से अधिक कार्य करवाने की स्थिति में
  • बिमा कंपनी की सहमति के बिना पॉलिसी में बताये गए जानवरों का किसी अन्य काम में उपयोग करना
  • पशु की जानबूझकर हत्या, ऐसे मामलों को छोड़कर जिसमे पशुचिकित्सा द्वारा पशु की मृत्यु को आवश्य्क बताया गया हो लेकिन साथ में पशु चिकित्सक के द्वारा जारी प्रमाण आवश्यक है।
  • हवा या समुद्र के द्वारा पशु का परिवहन
  • सड़क या रेल द्वारा, 80 किमी से अधिक का की गति से परिवहन
  • चोरी या बिना बिमा कम्पनी को बताये पशु की बिक्री करना।
  • पॉलिसी की शुरुआत से 15 दिनों में बीमारियों के कारण जानवर की मृत्यु
  • बिना टैग के कोई भी पशु पालक कोई दावा नहीं कर सकता।

बीमा की अवधि में स्वामित्व में परिवर्तन की स्थिति में

अगर कोई पशुपालक बीमा की वैधता अवधि के दौरान पशु की बिक्री या अन्य दूसरे प्रकार का  हस्तांतरण करता है तो इस स्थिति में बीमा पॉलिसी की शेष अवधि का लाभ नये स्वामी को हस्तांतरित किया जाएगा। पशुधन नीति के ढंग तथा शुल्क एवं हस्तांतरण हेतु आवश्यक विक्रय-पत्र आदि का निर्णय बीमा कंपनी के साथ अनुबंध के समय ही कर लिया जाता है ताकि किसान हो अपने पशु को बेचने में कोई भी परेशानी न हो और पशु के बीमा पर भी किसी प्रकार से कोई प्रभाव न पड़े।

Highlights Of Pashudhan Bima Yojana 2022

योजना का नाम पशुधन बीमा योजना
किस ने लांच की केंद्र और राज्य सरकार के साझा सहयोग से
लाभार्थी पशुपालक व किसान
उद्देश्य पशुओं को बीमा कवर प्रदान करना
आधिकारिक वेबसाइट https://dahd.nic.in/
वर्ष 2022

किन किन जानवरो का होता है बीमा

केंद्र और राज्य सरकार के साझा सहयोग से पशुधन बीमा योजना चलाई जा रही है जिस से की पशुपालक या किसान को बहुत लाभ मिल रहा है। इसमें कोई भी किसान या पशुपालक अपने पशुओं का बीमा करवा सकता है. इस योजना में गाय, भैंस, घोड़ा, ऊंट, गधा, खच्चर, बैल, भेड़, बकरी, खरगोश, सूअर का बीमा किया जाता है।

पशुधन बीमा योजना में आवेदन करने के लिए महत्वपूर्ण दस्तावेज

  • जाति प्रमाण पत्र
  • पासपोर्ट साइज फोटोग्राफ
  • मोबाइल नंबर
  • बैंक खाता विवरण
  • किसान का आधार कार्ड
  • राशन कार्ड
  • निवास का प्रमाण
  • आय प्रमाण पत्र

पशुधन बीमा योजना मुआवजा की राशि

पशु बीमा राशि
 भैंस 88000
गाय 80000
घोड़ा 40000
भेड़ 5000
बकरी 5000
सूअर 5000

 

पशुधन बीमा योजना प्रीमियम राशि

पशु प्रीमियम राशि
गाय 100
भैंस 100
बैल 100
ऊंट 100
भेड़ 25
बकरी 25
सूअर 25

 

पशुधन बीमा योजना की पात्रता

पशुधन बीमा योजना योजना का लाभ लेने के लिए इसकी पात्रता जानना अति आवश्य्क है इसके लिए पशुपालक का भारत का स्थाई निवासी होना अनिवार्य है। तथा किसान के पास दुधारू तथा मांस उत्पादन करने वाले पशु जैसे कि भैंस, बकरी, भेड़, ऊट आदि जानवर होना आवश्य्क है ये सभी जानवर इस योजना के अंतर्गत आते है अगर किसान ने अपने पशु का बीमा किसी दूसरी बीमा योजना के अंतर्गत बीमा कवर करवाता है तो वह इस योजना का लाभ नहीं उठा सकता।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here