सड़क हाईवे के तर्ज पर ब्रॉडबैंड हाइवे 2021 | Broadband Highways in Digital India 2021

0
1253
Broadband Highways in Digital India
Broadband Highways in Digital India

सड़क हाईवे के तर्ज पर ब्रॉडबैंड हाइवे 2021 | Broadband Highways in Digital India 2021 | डिजिटल इंडिया कायर्क्रम का पहला स्तम्भ

भारत को डिजिटल तौर पर सशक्त बनाने के लिए शुरू किये गए डिजिटल इंडिया कायर्क्रम का पहला स्तम्भ सड़क हाइवे के तर्ज पर ब्रॉड बैंड हाइवे है। असल में ब्रॉडबैंड हाईवे एक काल्पनिक डिजिटल सड़क है, जिस पर हर प्रकार की सुविधाएं ई-गवरनेंस के माध्यम से लोगों तक पहुंचाई जायगी। इसके तहत देश के  प्रत्येक घर एवं प्रत्येक व्यक्ति तक ब्रॉड बैंड के ज़रिए इंटरनेट पहुंचाने का प्रयास किया जाएगा। डिजिटल इंडिया के पहले नंबर के तहत देश के हरेक राज्य हर एक जिले शहर ग्रामीण क्षेत्रों को ब्रॉडबैंड के नेटवर्क के साथ जोड़ा जाएगा ताकि देश में निरंतर बिना किसी रूकावट के इंटरनेट सुविधाएं पहुंचाई जा सके।

जिस प्रकार देश में सड़क हाईवे बनाए गए हैं; उसी प्रकार पूरे देश में ब्रॉडबैंड हाईवे तैयार किए जाएंगे। शहरी व ग्रामीण इलाकों में इंटरनेट पहुंचाया जाएगा, शहरी विकास और इमारतों के संचार में बुनियादी ढांचे को अनिवार्य करने के लिए लिए भी ब्रॉडबैंड हाईवे बनाए जाएंगे। ब्रॉडबैंड हाईवे का इस्तेमाल वाईफाई फैसिलिटी लोगों तक पहुंचाने के लिए किया जाएगा।

सड़क हाईवे के तर्ज पर ब्रॉडबैंड हाइवे 2021 का उद्देश्य | Broadband Highways in Digital India 2021: Objectives

देश के नागरिकों को सेवाओं की आपूर्ति में सहायता करने के लिए, प्रौद्योगिकी को उपलब्‍ध कराने और समर्थ बनाने के लिए डिजिटल इंडिया के पहले स्तम्भ ब्रॉड बैंड हाइवे का उद्देश्य सभी को इंटरनेट सुविधाएं उपलब्ध करा के देश को अंतरराष्ट्रीय लेवल पर विकसित देशों की श्रेणी में खड़ा करना है।

डिजिटल इंडिया के पहले स्तम्भ ब्रॉड बैंड हाइवे 2021 के लिए केंद्र द्वारा जारी किया गया बजट 

डिजिटल इंडिया के पहले स्तम्भ ब्रॉड बैंड हाइवे के लिए केंद्र द्वारा लगभग 20,100 करोड़ रूपए की अनुमानित लागत वाली राष्ट्रव्यापी ऑप्टिकल फाइबर नेटवर्किंग परियोजना (ब्रॉड बैंड हाइवे के लक्ष्य को पूरा करने के लिए लिए ऑप्टिकल फाइबर का इस्तेमाल किया जायेगा) वित्त वर्ष 2016-17 में जारी की गयी। इसके बाद इस परियोजना की अनुमानित पूंजीगत लागत 4900 करोड़ रूपए और 10 सालों के लिए परिचालन लागत 2500 करोड़ रूपए केंद्र द्वारा जारी की जाएगी।

डिजिटल इंडिया 2021 के माध्यम से ब्रॉड बैंड हाइवे के तीन घटक | Broadband Highways in Digital India 2021

डिजिटल इंडिया के माध्यम से ब्रॉड बैंड हाइवे को पूरे देश में लागू करने के लिए सरकार द्वारा तीन घटक निर्धारित किये गए हैं। जिनके के अनुसार पूरे देश में ब्रॉड बैंड हाइवे को लागू किया गया है, इन तीनो  घटकों का वर्णन निम्नलिखित प्रकार है:-

सबके लिये ब्रॉडबैंड-ग्रामीण इस योजना में वर्ष 2016 तक देश की 2.5 लाख ग्राम पंचायतों को नेशनल ऑप्टिकल फाइबर नेटवर्क के तहत ब्रॉडबैंड से जोड़ने की योजना बनाई गई थी। इस घटना के तहत अब भी ग्रामीण क्षेत्रों में ब्रॉडबैंड सेवाओं  काम चल रहा है ताकि उन इलाकों में डिजिटल कार्यक्रम के तहत लोगों को जोड़ा जा सके।
सबके लिये ब्रॉडबैंड-शहरी इस योजना के तहत शहरों में इंटरनेट जाल में बढ़ोत्तरी की जायेगी और भविष्य में होने वाले शहरी विकास और इमारतों में संचार के बुनियादी ढाँचे को अनिवार्य कर दिया जायेगा। शहरों के प्रत्येक विभाग, प्रत्येक व्यक्ति को ब्रॉड बैंड के माध्यम से जोड़ा जायेगा।
राष्ट्रीय सूचना संरचना डिजिटल इंडिया के पहले स्तम्भ ब्रॉड बैंड हाइवे को देश के अंदर पूर्ण तौर पर लागू करने के लिए देश में नेटवर्क और क्लाउड संरचना के एकीकरण का काम किया जाएगा। जिससे सरकारी विभागों से लेकर पंचायत स्तर तक तीव्र गति की इंटरनेट सुविधा सुनिश्चित हो सके।

 

ब्रॉडबैंड हाईवे 2021 के तहत पूरे देश को जोड़ने की रणनीति | Broadband Highways in Digital India 2021: Strategy

  • ब्रॉड बैंड हाइवे सुविधाओं को विभिन्‍न पूर्वोत्‍तर राज्‍यों और अन्‍य राज्‍यों के छोटे और मुफस्सिल शहरों में बीपीओ केन्‍द्र खोलने के लिए बीपीओ स्थापित करने का कार्य किया जायेगा।
  • इलेक्‍ट्रॉनिक्स विकास निधि (ईडीएफ) नीति का उद्देश्‍य नवाचार, अनुसंधान और विकास, उत्‍पाद और विकास को प्रोत्‍साहन देने उपक्रम निधियों के आत्मनिर्भर पारिस्थितिकी प्रणाली का सृजन करने के लिए देश में आईपी के संसाधन पुलों का निर्माण भी किया जायेगा।
  • फलेक्सिबल इलेक्‍ट्रॉनिक्‍स के उभरते हुये क्षेत्र में अनुसंधान और नवाचार को प्रोत्‍साहित करने के लिए फलेक्सिबल इलेक्‍ट्रॉनिक्‍स के लिए राष्‍ट्रीय केन्‍द्र के तौर पर निर्मित किया जायेगा।
  • ब्रॉड बैंड हाइवे सुविधाओं को योजनाबद्ध तरीके से लागू करने के लिए इंटरनेट ऑन थिंक्‍स (आईओटी) के लिए उत्‍कृष्‍टता केन्‍द्र इलेक्‍ट्रॉनिक्‍स एवं सूचना प्रौद्योगिकी विभाग, ईआरएनईटी और नेस्‍सोकेम की संयुक्‍त पहल द्वारा की गई है।

डिजिटल इंडिया के पहले स्तम्भ ब्रॉड बैंड हाइवे 2021 के लाभ | Broadband Highways in Digital India 2021: Benefits

  • 2019 तक डिजिटल इंडिया के अनुमानित प्रभाव से सभी पंचायतों में ब्रॉडबैंड कनेक्टिविटी से जोड़ा गया है।
  • कन्या कुमारी से लेकर श्रीनगर तक सभी स्कूलों और विश्वविद्यालयों में वाई-फाई और सार्वजनिक रूप से वाई-फाई हॉटस्‍पोर्ट उपलब्‍ध किये जायेंगे।
  • प्रत्‍यक्ष और अप्रत्‍यक्ष रूप से इस कार्यक्रम से भारी संख्‍या में सूचना प्रौद्योगिकी, टेलीकॉम और इलेक्‍ट्रॉनिक्‍स रोजगार के अवसर पैदा होंगे, जिससे देश में बेरोजगारी का खात्मा होगा।
  • इस ब्रॉडबैंड हाईवे के माध्यम से पूरा भारत डिजिटल रूप से सशक्त बन जायेगा एवं देश के लोगों में आत्मनिर्भरता बढ़ेगी।
  • यह वो हाईवे है जो स्वास्थ्य, शिक्षा, कृषि, बैंकिंग जैसे क्षेत्रों से संबंधित सेवाओं की आपूर्ति में सूचना प्रौद्योगिकी के उपयोग में भारत देश को शीर्ष स्‍थान पर ले जायेगा।
  • नागरिक सेवायें लोगों को इलेक्‍ट्रॉनिक रूप से उपलब्‍ध करायी जायेंगी और नागरिकों तथा प्राधिकारियों की एक दूसरे के साथ बातचीत कराने के लिये अच्छे व सरल माध्यम बनाये जायेंगे।
  • इसके तहत देश में सभी 2.5 लाख ग्राम पंचायतों में चरणबद्ध तरीके से राष्ट्रव्यापी ऑप्टिकल फाइबर नेटवर्क (NOFN) का विस्तार किया जाएगा, जो पहले स्तम्भ को इलाकों में पूर्ण तौर पर लागू करने का मुख्य आधार है।

यह डिजिटल इंडिया का पहला स्तम्भ है, जिसके तहत पूरे देश में डिजिटलाइजेशन की शुरआत होगी और देश हर प्रकार से ऑनलाइन माध्यम की तरफ आगे बढ़ने लगेगा; इस से न केवल देश के नागरिकों का फायदा होगा बल्कि भारत देश भी अंतरराष्ट्रीय स्तर पर कामयाब होगा।

सरकारी योजना List 2021 प्रधानमंत्री सरकारी योजना 2021

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here